Find Below Articles Published in
Volume -8 Issue - 10
Month [Year] -- October [2017]
*Contents are provided by Authors of articles. Please contact us if you having any query.

   No of Download : 47    Submit Your Rating     Cite This       Full Article
Abstract

Gender based violence against women is a public health issue that leaves no portion of the earth free and while many nations and populations are making efforts to combat the problem, it is still rampant. This study investigated the prevalence of abuse among female healthcare professionals in Northern Nigeria.

   No of Download : 38    Submit Your Rating     Cite This       Full Article
Abstract

Biological diversity or ‘Bio diversity’ is defined as the diversity of all living forms at different level of complexities: genes, species, ecosystem and even landscapes. Biodiversity is essential not only for the proper functioning of the earth system but also for the survival of the mankind, the rich varieties of genes, species, biological communities and life supporting biological and chemical processes give us food, wood, fibres, energy , raw material industrial chemical and medicine. It also provides us with free recycling, purification and maintains ecological balance.

   No of Download : 111    Submit Your Rating     Cite This       Full Article
Abstract

सम्प्रति, किसी राष्ट्र की विदेश नीति उसके द्वारा राष्ट्रीय एवं अन्तर्राष्ट्रीय परिवेश में अपने राष्ट्रीय हितों को इष्टतम बनाने का प्रयास होती है। एक राष्ट्र की विदेश नीति में उस राष्ट्र की आन्तरिक एवं वाह्य परिस्थितियों के साथ-साथ, नीति-निर्माता के व्यक्तित्व की भी महत्वपूर्ण भूमिका होती है।

   No of Download : 27    Submit Your Rating     Cite This       Full Article
Abstract

संसार का हर एक व्यक्ति (प्राणी)अनादिकाल से भ्रमण करता रहा है और वह अध्यात्मिक आदिभंतिक व आदिदैविक इन तीन दुखों को झेलता आ रहा है। वो इन तीन दुखों से पूर्ण रूप से छुटकारा पाना चाहता है। परन्तु जितना वह संसार कि मोह माया में डूबता जाता हैए उतना ही उसमे फसता चला जाता है। क्योंकि वो जैसे जैसे कर्म करता हैए वैसे.वैसे उसे अपने कर्मो का फल भोगना पड़ता है। कर्म अच्छे हो तो फल अच्छा होगा और कर्म बुरे हो तो फल भी बुरे ही मिलेंगे। यही जीवन का बन्धन है तथा दुखों व कर्मों से अनिवार्य रूप से छुटकारा ही मुक्ति है।

   No of Download : 7    Submit Your Rating     Cite This       Full Article
Abstract

उत्तराखण्ड का जन्म 09 नवम्बर सन् 2000 को भारत के सत्ताइसवें राज्य के रूप में उत्तरांचल नाम से हुआ। इससे पहले यह उत्तर प्रदेश का ही भाग था तथा कुमाऊँ और गढ़वाल मण्डल में विभाजित है। उत्तराखण्ड में वर्तमान में 13 जिले हैं जिनमें 7 गढ़वाल में-देहरादून, उत्तरकाशी, पौढ़ी, टिहरी (अब नई टिहरी), चमोली, रूद्रप्रयाग, हरिद्वार और कुमाऊँ में-अल्मोड़ा, नैनीताल, पिथौरागढ़, चम्पावत, बागेश्वर और ऊधमसिंह नगर हैं। यह उत्तर में चीन, हिमाचल प्रदेश, पूर्व में नेपाल, दक्षिण में उत्तर प्रदेश और पश्चिम में हरियाणा व हिमाचल प्रदेश से घिरा हुआ है। इसकी लम्बाई पूर्व से पश्चिम की ओर 358 किमी ओर चैड़ाई उत्तर से दक्षिण की ओर 320 किमी है। यहाँ 70 विधानसभा सीट, 03 राज्यसभा सीट और 05 लोकसभा सीट हैं। उत्तराखण्ड का क्षेत्रफल 53483 वर्ग किमी है। उत्तराखण्ड का उच्चतम न्यायालय नैनीताल में है। सन् 2000 से 2006 तक यह उत्तरांचल के नाम से जाना जाता है। जनवरी 2007 में स्थानीय लोगों की भावनाओं को ध्यान में रखते हुए राज्य का आधिकारिक नाम बदलकर उत्तराखण्ड कर दिया गया। इस आयताकार आकृति के राज्य की अस्थायी राजधानी देहरादून है तथा देहरादून राज्य का सबसे बड़ा नगर है।

   No of Download : 6    Submit Your Rating     Cite This       Full Article
Abstract

Social changes are variations from the accepted modes of life whether due to alteration in geographical conditions, in cultural equipment, composition of the population or ideologies, whether brought about by diffusion or inventions with the groups. Social changes is a universal social phenomenon. It is a phenomenon of transformation. The nature is never at rest. It is changeful. Change is ever present in the world, because change is the Law of Nature. Society is subject to constant changes. Social change has occurred in all societies and at all times. Of all the objects we study, none changes before our very eyes as the society itself. Incessant changeability is the very inherent nature of the human society. Individuals may strive for security and stability, societies may faster an illusion of permanence and the belief in eternity may persist unshaken. Yet the fact remains true that society like all other phenomenon changes inevitably. Society is influenced by many forces and factors that irresistibly cause changes. India of today is different from the India of yesterday; what it is going to be tomorrow is hence, difficult to predict. In course of a decade or two, significant changes can and do occur in human society. The territory which the sociologist explores, changes even as he explores it. This fact has an important bearing both on his methods and on his results. Here at least we can seek the principles of eternal change. What then, do we mean by change and social change? This paper highlight the social change as a phenomenon of transformation